दूध मिलावट गंभीर मामला, शिकायत मिलने पर कार्यवाही की जाएगी: लालचंद कटारिया

  • Posted on: 10 March 2020
  • By: admin
जयपुर (का.सं.)। पशुपालन मंत्री श्री लालचंद कटारिया ने विधानसभा में गोपालन मंत्री की ओर से कहा कि दूध में मिलावट करना आम जीवन से जुड़ा हुआ एक गंभीर मामला है। उन्होंने कहा कि दुग्ध में मिलावट की शिकायत मिलने पर संबंधित संस्था के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। कटारिया प्रश्नकाल में विधायकों द्वारा इस संबंध में पूछे गये पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य में 2 हजार 664 प्राथमिक दुग्ध सहकारी समितियों द्वारा दूध में मिलावट करना पाया गया।
उन्होंने कहा कि मिलावट नीचे के स्तर पर पकड़ी जाती है। पहली बार में डेयरी अथवा जिला दुग्ध उत्पादक संघ दूध को नष्ट कर देता है तथा किसान को दे दिया जाता है। अगर दूसरी बार भी मिलावट मिलती है तो संस्था को चेतावनी दी जाती है तथा बोर्ड उस पर जुर्माने का निर्णय लेता है। पशुपालन मंत्री ने बताया कि अगर संस्थान द्वारा तीसरी बार भी दूध में मिलावट की जाती है तो संस्था को रद्द कर मामला एडीएम को भेजा जाता है। उन्होंने कहा कि अगर मिलावट के लिए नमूना स्वास्थ्य विभाग में भेजा जाता है तो प्रकरण न्यायिक बन जाता है जिसमें सजा का प्रावधान है। दूध में मिलावटों के इन प्रकरणों में 5 लाख से 25 लाख रुपय तक का जुर्माना किया जाता है। 
 
Category: