कोरोना वायरस के बाजार पर प्रभाव का आंतरिक तौर पर आकलन कर रहा सेबी

  • Posted on: 10 March 2020
  • By: admin
मुंबई। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) दुनिया के कई देशों में फैल चुके कोरोना वायरस के पूंजी बाजार पर पडऩे वाले प्रभाव का ''आतंरिक तौर पर आकलन" कर रहा है। सेबी के पूर्ण कालिक सदस्य एस के मोहंती ने बुधवार को कहा, हालांकि वित्तीय क्षेत्र के नियामकों की शीर्ष संस्था वित्तीय क्षेत्र विकास परिषद (एफएसडीसी) अभी इस विचार विमर्श में शामिल नहीं हुई है।
सेबी के पूर्ण कालिक सदस्य की तरफ से यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जब दुनियाभर में केन्द्रीय बैंक हरकत में आ रहे हैं। अमेरिका के फेडरल रिजर्व ने मंगलवार को अचानक ब्याज दर में आधा प्रतिशत की कटौती कर सबको चौंका दिया।रिजर्व बैंक ने भी मंगलवार को बयान जारी कर बाजार को हर संभव सहायता देने का भरोसा दिया है। 
मोहंती ने यहां संवाददाताओं से कहा, ''सेबी कोरोना वायरस और इसके बाजार पर पडऩे वाले प्रभाव को लेकर जागरूक है।हम इस दिशा में जरूरी कदम उठा रहे हैं।"उन्होंने कहा, ''हमने रिजर्व बैंक का बयान देखा है।हमें इसकी जानकारी है। जो कुछ भी किया जाना है वह किया जाना चाहिये। हम आंतरिक तौर पर स्थिति का आकलन कर रहे हैं।"
यह पूछे जाने पर कि इस मुद्दे पर क्या एफएसडीसी में कोई चर्चा हुई है? जवाब में उन्होंने कहा ''अभी नहीं।"इससे पहले उद्योग संगठन एसोचैम द्वारा पूंजी बाजार पर आयोजित एक सम्मेलन में मोहंती ने कहा कि सेबी ने रीयल एस्टेट इनवेस्टमेंट ट्रस्ट (रीट) और इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट (इनविट) पर कराधान के विवादित मुद्दे को सरकार के समक्ष उठाया है। 
वर्ष 2020- 21 के बजट में रीट और इनविट के लिये लाभांश वितरण कर (डीडीटी) में बदलाव का प्रावधान है।इस बदलाव को उद्योग नुकसानदायक मान रहा है। उन्होंने कहा, ''कर लगाने अथवा हटाने का मामला सेबी के हाथ में नहीं है लेकिन हमने इसे सरकार के समक्ष उठाया है। उम्मीद है कुछ अच्छा होगा।"
Category: